Tuesday, November 24, 2009

सावन के बदरी में

Monday, November 9, 2009

मोरे अंग अंग बाजे मधुर बांसुरी !

हमरा मनक गाम में

दर्दी सजना !

चन्द्रमा उतरल गगन sn